लड़कियों के अंडरगारमेंट्स चोरी करने वाला लड़का गिरफ्तार, बताया- क्‍यों करता था ऐसा काम!

लड़कियों के अंडरगारमेंट्स चोरी करने वाला लड़का गिरफ्तार, बताया- क्‍यों करता था ऐसा काम!

मेरठ में एक अजीब और बेहत ही घिनौना कारने वाले शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दरअसल, सदर बाजार में लड़कियों के कपड़े चोरी करने वाले गैंग के एक सदस्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर किया है। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो कई बातों का खुलासा हुआ है। पकड़े गए आरोपी ने बताया कि वह किस कारण से लड़कियों के अंडरगारमेंट की चोरी करते थे। उसने बताया कि वह किस वजह से लड़कियों के अंडर गारमेंट चोरी करते थे। पुलिस ने बताया कि पूछताछ में आरोपित ने कहा कामुकता के लिए लड़कियों के अंडर गारमेंट चोरी करते थे। पुलिस ने कहा कि उसने यह भी बताया कि इसमे कितने लोग शामिल हैं। पुलिस उसके दूसरे साथी की भी तलाश कर रही है।

बता दें कि सदर बाजार के व्यापारियों ने रविवार को थाने में हंगामा कर लड़कियों के अंडर गारमेंट चोरी होने की वीडियो फुटेज पुलिस को सौंपी थी। व्यापारियों का आरोप था कि सदर बाजार एरिया में बाइक सवार लड़कियों के कपड़े चोरी कर रहे हैं सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने सोतीगंज के एक आरोपी रोमिन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने कि उसका एक दोस्त अक्कास अभी फरार चल रहा है, जल्द ही उसे भी पकड़ लिया जाएगा।

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में आरोपित ने कहा कि वह कामुकता के लिए लड़कियों के अंडर गारमेंट चोरी करते थे। अब तक करीब 10 से ज्यादा लड़कियों के कपड़े चोरी कर चुके हैं। पुलिस ने उनके कब्जे से लड़कियों के कपड़े भी बरामद किए है। साथ ही पुलिस फरार दोस्त की तफ्तीश कर रही है। पुलिस ने बताया कि लड़कियों के अंडरगारमेंट चोरी के मामले में और लोगों के जुड़े होने की आशंका जताई जा रही है।


यहां प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए शुरू की जाएगी पालकी सेवा, वजह जानकर होंगे हैरान

यहां प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए शुरू की जाएगी पालकी सेवा, वजह जानकर होंगे हैरान

आज भी विकास के इस युग में कई जगह ऐसी है जहां सड़क और वाहन की सुविधा नहीं है। गर्भावस्था के दौरान भी निकटतम अस्पताल तक पहुंचने के लिए महिलाओं को मीलों पैदल चलना पड़ता है। लेकिन अब महिलाओं की इस दुविधा को देखते हुए नैनीताल जिला प्रशासन ने महिलाओं को अस्पतालों में प्रसव कराने के लिए पालकी सेवा शुरू की है। 

शुरू की जाएगी पालकी सेवा

जिला मजिस्ट्रेट सविन बंसल ने गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए निकटतम रोड हेड या अस्पताल लाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों के लिए 500 'डोलिस' या पालकी की व्यवस्था करने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी को हाल ही में दस लाख रुपये जारी किए।


यहां चलेगी पहली पालकी 

नैनीताल उत्तराखंड का पहला जिला बन गया है, जहां ग्रामीण महिलाओं की दुर्दशा को दूर करने के लिए ऐसा कदम उठाया गया है। कुछ पैसे हमेशा अस्पताल में रखे जाएंगे और 2,000 रुपये किसी भी व्यक्ति को दिए जाएंगे जो गर्भवती महिला को पालकी में रखकर अस्पताल लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।