कोरोना से बेसहारा हुए बच्‍चों को कल म‍िलेंगे 12-12 हजार रुपये, सीएम योगी करेंगे योजना का शुभारंभ

कोरोना से बेसहारा हुए बच्‍चों को कल म‍िलेंगे 12-12 हजार रुपये, सीएम योगी करेंगे योजना का शुभारंभ

कोरोना संक्रमण के कारण बेसहारा हुए जिले के 176 बच्‍चों को 22 जुलाई को 12-12 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। इनमें से छह बच्‍चों के माता-पिता की मौत हो चुकी है, 170 बच्‍चों के माता या पिता का निधन हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन ब'चों को प्रति माह चार हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं।

सीएम ने द‍िया था न‍िर्देश

22 जुलाई को लखनऊ के लोकभवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ के लोकभवन में बाल सेवा योजना का शुभारंभ करेंगे। इसमें कोरोना संक्रमण के कारण बेसहारा हुए प्रदेश के सभी बच्‍चों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण एनेक्सी भवन में होगा। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में मौतों को देखते हुए मुख्यमंत्री ने सभी बेसहारा ब'चों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। इसके बाद से विभाग ने सर्वे कर ब'चों की सूची तैयार की थी।


रहने-खाने और पढऩे की भी होगी व्यवस्था

जिला प्रोबेशन अधिकारी सर्वजीत सिंह ने बताया कि जिले में छह ब'चों के माता-पिता की कोरोना संक्रमण से मौत हो चुकी है। 170 के माता-पिता में एक की मौत हुई है। इन ब'चों को आॢथक सहायता देने के साथ ही उनके रहने-खाने और पढ़ाई की भी सरकार व्यवस्था करेगी। विभाग सभी बच्‍चों के संपर्क में है।

लखनऊ से सीएम करेंगे योजना का शुभारंभ

 
22 जुलाई को मुख्यमंत्री लखनऊ से योजना का शुभारंभ करेंगे। उसी समय बच्‍चों को तीन महीने की एकमुश्त आर्थिक सहायता दी जाएगी। बच्‍चों को 12-12 हजार रुपये मिलेंगे। उन्होंने जल्द ही कोरोना संक्रमण से निराश्रित महिलाओं को भी सहायता मिलने की उम्मीद जताई। बताया कि योग्यता के आधार पर महिलाओं को रोजगार में भी सहायता की जाएगी।

11 हजार से अधिक लोगों ने लगवाया कोरोना रोधी टीका

 
कोविड टीकाकरण अभियान में मंगलवार को 44 बूथों पर 11201 लोगों को कोरोना रोधी टीका लगाया गया। इसमें 8517 को पहली व 2684 को दूसरी डोज दी गई। बूथों पर उत्साह का माहौल था। लोगों ने लाइन लगाकर अपनी बारी की प्रतीक्षा की। वैक्सीन की कमी से टीकाकरण अभियान की गति थोड़ी धीमी हो गई है। पिछले एक सप्ताह से सात ब्लाकों में चलने वाला कलस्टर अभियान नहीं चल पा रहा है। शासन से बहुत कम मात्रा में वैक्सीन आ रही है। इसलिए 40 से 70 बूथों पर ही टीकाकरण हो पा रहा है। मंगलवार को पांच हजार डोज कोवैक्सीन आई। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एनके पांडेय ने बताया कि वैक्सीन नियमित आ रही है। इसलिए टीकाकरण बाधित नहीं हो रहा है। हालांकि पर्याप्त वैक्सीन अभी उपलब्ध नहीं हो पा रही है। इसलिए कलस्टर अभियान रोका गया है।


सीएम योगी ने गुरु चरणों में नवाया शीश, महाआरती का आयोजन

सीएम योगी ने गुरु चरणों में नवाया शीश, महाआरती का आयोजन

तीन दिन के दौरे पर शुक्रवार को गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार की सुबह गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर में अपने गुरुजनों की पूरे विधि-विधान से पूजा की और उनका आशीर्वाद लिया। इसी क्रम में मुख्यमंत्री मंदिर परिसर में मौजूद सभी देव-विग्रहों के दरबार में भी गए और उनकी आराधना की।

पूजा के क्रम में मुख्यमंत्री ने सबसे पहले नाथ पंथ के आदि गुरु बाबा गोरखनाथ के दरबार में हाजिरी लगाई। बाबा को परंपरागत महारोट का प्रसाद चढ़ाकर उन्होंने पूरे वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उनकी पूजा की। उसके बाद वह परिसर में मौजूद सभी देव-विग्रहों के पास पहुंचे और उन्हें पूजा। अंत में वह बारी-बारी से बाबा गंभीरनाथ, ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर गए और उनकी पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद लिया। पूजा-अर्चना की आनुष्ठानिक प्रक्रिया सम्पन्न होने के बाद मुख्यमंत्री की अगुवाई में गुरु पूर्णिमा पर होने वाली परंपरागत महाआरती का आयोजन किया गया और सभी गुरुओं के प्रति आस्था निवेदित की गई।


शिष्‍यों को आशीर्वाद देंगे गोरक्षपीठाधीश्‍वर

गुरु पूजा के बाद मुख्यमंत्री योगी बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर अपने शिष्यों को आशीर्वाद देंगे। यह आयोजन मंदिर के महंत दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में होगा। इस आयोजन में शिष्यों को योगी आदित्यनाथ का आशीर्वचन भी सुनने को मिलेगा। इस दौरान भजन-कीर्तन का आयोजन भी है। इस कार्यक्रम में लोकगायक राकेश श्रीवास्तव गुरु महिमा वाले भक्ति गीतों का गायन करेंगे। अंत में भंडारे का आयोजन किया गया है, जिसमें मौजूद सभी लोग मंदिर का प्रसाद ग्रहण करेंगे। पूरे आयोजन के दौरान कोविड प्रोटोकाल के पालन को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है।


गुरु दर्शन के बाद किया जनता दर्शन

गुरु पूर्णिमा के दिन भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने राजनीतिक दायित्व को नहीं भूले। उन्होंने गुरु का दर्शन के बाद के मंदिर के हिंदू सेवाश्रम में हमेशा की तरह जनता दर्शन भी किया और दूर-दराज से न्याय की आस लेकर आए करीब 150 फरियादियों की समस्याएं सुनीं। सभी फरियादियों को उन्होंने समस्या समाधान के लिए आश्वस्त किया।