56 किशोरों की बिगड़ी तबियत, मिले कोरोना पॉजिटिव

56 किशोरों की बिगड़ी तबियत, मिले कोरोना पॉजिटिव

लखनऊ: राजधानी लखनऊ के मोहान रोड स्थित राजकीय संप्रेक्षण गृह में निरुद्ध में 153 किशोर बंदियों में 56 बंदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इसकी सूचना मिलते ही बंदियों और कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है। किशोर जेल में 18 साल के नीचे के अपराधियों को न्यायालय के आदेश पर रखा जाता है। बीती नौ अगस्त को सभी 153 बंदियों की स्क्रीनिंग की गई थी। मंगलवार की देर रात रिपोर्ट आने पर 56 बंदी पॉजिटिव पाए गए।

जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधाकर पांडेय ने बताया
जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधाकर पांडेय ने बताया कि सभी किशोर बंदियों की सुरक्षा के चलते जांच कराई गई थी। रिपोर्ट आने के बाद बिना लक्षण के 56 किशोर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश के आदेश पर सभी को पुलिस सुरक्षा के साथ चारबाग के राजकीय रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया। एक बार फिर सभी कर्मचारियों और बंदियों की जांच होगी।

पुलिस सुरक्षा में सभी को चारबाग के राजकीय रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया
फिलहाल पुलिस सुरक्षा में सभी को चारबाग के राजकीय रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।इन बंदियों में किसी में कोई लक्षण न होने के बावजूद कोरोना पॉजिटिव होने पर सभी हैरान हैं। अधीक्षक संजय कुमार सोनी का कहना है कि नियमित डॉक्टरी जांच के बाद ही उन्हें यहां रखा जाता है। जुकाम, बुखार या खासी जैसे लक्षण भी नहीं थे। मास्क और सैनिटाजर का प्रयोग अनिवार्य होने के बाद ऐसा होने से कर्मचारी भी परेशान हैं। सभी बंदियों के अभिभावकों को भी सूचित किया जा चुका है। पूरे परिसर को सैनिटाइज करने के साथ ही आज फिर एक बार सभी किशोर बंदियों की कोरोना जांच की जाएगी।

बता दे कि राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण में कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। बीते करीब एक पखवाड़े से कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामलें में लखनऊ टाप पर है। इसके साथ ही राजधानी में कई सरकारी कार्यालयों में भी कोरोना अपनी दस्तक दे चुका है।