ग्रेटर नोएडा के बिल्डरों को प्राधिकरण की चेतावनी

ग्रेटर नोएडा के बिल्डरों को प्राधिकरण की चेतावनी

सोसाइटी के सीवर को शोधित करने के लिए STP (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) न बनाने और चलाने वाले बिल्डरों के विरूद्ध ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण (Greater Noida Authority) ने कड़ी कार्रवाई करने जा रहा है प्राधिकरण ने गुरुवार को दो टूक कह दिया है कि एसटीपी नहीं बना है या फिर उसे ठीक से चलाया नहीं जा रहा है तो भारी-भरकम पेनल्टी लगाई जाएगी  ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ अमनदीप डुली ने  ग्रेटर नोएडा के विभिन्न बिल्डरों और अपार्टमेंट ऑनर्स एसोसिएशन के साथ बैठक की SEO ने बोला कि जिन बिल्डरों (Builders) ने अपने रिहायशी प्रोजेक्ट में एसटीपी नहीं बनाए हैं, वे एसटीपी बनाकर शीघ्र चालू करें उन्होंने कहा, जिन सोसाइटियों में बने हैं वे उनको नियमित रूप से संचालित करें सीवर को शोधित करना जरूरी है शोधित पानी को उद्यानीकरण में इस्तेमाल करें NGTA की तरफ से भी इस मामले में कठोर आदेश दिए गए हैं ऐसा न करने वालों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी

जिन सोसाइटियों में एसटीपी नहीं है या फिर बने हैं लेकिन फंक्शनल नहीं हैं उनको पूर्व में नोटिस जारी की जा चुकी है अब इन सोसाइटियों पर भारी-भरकम जुर्माना लगाया जाएगा इसके बावजूद सुधार न हुआ तो एनजीटी के आदेशों के मद्देनजर विधिक कार्रवाई की जाएगी दरअसल, ग्रेटर नोएडा में 20 हजार वर्ग मीटर या उससे अधिक एरिया पर बनने वाले सभी प्रोजेक्टों को अपना एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) बनाना और उसे फंक्शनल रखना जरूरी है, लेकिन कई सोसाइटियों के निवासी प्राधिकरण से लगातार कम्पलेन कर रहे थे कि उनके यहां एसटीपी नहीं बने हैं कुछ सोसाइटियों में एसटीपी बने हैं तो वह फंक्शनल नहीं हैं, जिसके चलते सीवर विभाग ने नोटिस जारी किया था ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जीएम प्रोजेक्ट एके अरोड़ा, डीजीएम केआर वर्मा और वरिष्ठ प्रबंधक कपिल सिंह और सहायक प्रबंधक प्रभात इस मीटिंग में शामिल रहें और आदेश का पालन न करने वाली सोसाइटी पर कठोर कार्यवाही करने के साफ साफ निर्देश दिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के CEO सुरेन्द्र सिंह ने इस कार्यवाही को लेकर बोला कि जल को स्वच्छ रखना हम सबकी जिम्मेदारी है इसे प्रदूषित करने की अनुमति किसी को नहीं दी जा सकती जिन बिल्डर सोसाइटियों में एसटीपी नहीं बने हैं वे शीघ्र बनाकर उसे नियमित रूप से संचालित करें और जिन सोसाइटियों में बने हैं , लेकिन फंक्शनल नहीं है वे उनको तुरन्त फंक्शनल करें वरना कठोर कार्रवाई की जाएगी