सिंगापुर के उच्चायुक्त ने सीएम योगी से की मुलाकात

सिंगापुर के उच्चायुक्त ने सीएम योगी से की मुलाकात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर सिंगापुर के उच्चायुक्त साइमन वॉन्ग ने शिष्टाचार भेंट की. इस अवसर पर सिंगापुर और भारत, विशेष रूप से यूपी के मध्य संबंधों को और बेहतर करने के संबंध में विचार-विमर्श किया गया.

उच्चायुक्त साइमन वांग ने सीएम से बोला कि पिछली बार जब सितंबर 2021 में आपसे भेंट हुई थी. हमने तब यह महसूस किया था कि प्रदेश में सुरक्षा और शांति का बेहतर माहौल है और हम आपकी गवर्नमेंट के दोबारा चुने जाने को लेकर आश्वस्त थे. आखिर हमारा आकलन ठीक साबित हुआ. उच्चायुक्त ने सीएम को विधानसभा चुनाव में अभूतपूर्व जीत पर शुभकामना दी.

सिंगापुर के उच्चायुक्त ने बोला कि उन्हें यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं लगता कि सीएम से भेंट के बाद यूपी मुझे अपना दूसरा घर जैसा लगता है. सितंबर 2021 से अब तक सिंगापुर के प्रतिनिधिमंडल ने कई बार इन्वेस्ट उत्तर प्रदेश के ऑफिसरों से भेंट की है. हमें जानकारी मिली है कि यूपी आनें वाले साल ग्लोबल इन्वेस्टर समिट का आयोजन कर रहा है. हम चाहते हैं कि आप हमारी कंपनियों को इसमें आमंत्रित करें. यूपी की कंपनियों का सिंगापुर में स्वागत है. यदि सीएम की सहमति हो तो सिंगापुर को यूपी के ग्लोबल इन्वेस्टर समिट का फर्स्ट पार्टनर कंट्री बनने में प्रसन्नता होगी.

उच्चायुक्त वोंग ने बताया कि सिंगापुर की विभिन्न कंपनियों ने यूपी में 250 मिलियन यूएस $ का निवेश किया है. अधिकतर निवेश नोएडा और आस पास के क्षेत्रों में हैं. हम अपने निवेशकों को लखनऊ सहित प्रदेश के दूसरे हिस्सों में निवेश के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं. उच्चायुक्त ने बोला कि हमें जानकारी मिली कि यूपी स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना होने जा रही है. हम इसमें सभी तरह के महत्वपूर्ण योगदान करने के लिए तैयार हैं.

उच्चायुक्त साइमन ने बोला कि हमारा प्रस्ताव है कि यूपी और सिंगापुर की गवर्नमेंट के बीच ज्ञान, तकनीक और कौशल के एक्सचेंज के लिए एक कार्यक्रम हो. हम राज्य गवर्नमेंट के ऑफिसरों और कर्मचारियों के क्षमता अभिवर्धन के लिए महत्वपूर्ण प्रशिक्षण देने को तैयार हैं.

उच्चायुक्त ने बोला कि हमें वॉटर मैनेजमेंट सहित शहरी विकास और नियोजन के विभिन्न क्षेत्रों में यूपी का योगदान करने में प्रसन्नता होगी. पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने साल 2018 में सिंगापुर की यात्रा की थी. इस अवसर पर शहरी विकास एक अहम मामला था. पीएम की भावना के मुताबिक हम यूपी में काम करने के इच्छुक हैं.

विधानसभा चुनाव में जीत पर शुभकामना के लिए सीएम ने उच्चायुक्त के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया. उन्होंने बोला कि हिंदुस्तान और सिंगापुर के सुदृढ़ ऐतिहासिक संबंध रहे हैं. राजनयिक संबंधों के साथ-साथ दोनों राष्ट्रों के बीच मजबूत व्यापारिक संबंध हैं. यूपी इन संबंधों को और बेहतर बनाने में जरूरी किरदार निभा सकता है.

मुख्यमंत्री ने बोला कि हाल ही में सम्पन्न तृतीय ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में सिंगापुर की एक कंपनी ने ₹1100 करोड़ का निवेश किया है. स्मार्ट सिटी परियोजना में प्रदेश का उत्कृष्ट प्रदर्शन है. सिंगापुर हमें इस परियोजना की बेहतरी के लिए तकनीकी योगदान कर सकता है.

मुख्यमंत्री ने बोला कि यूपी अपने निवेशकों की आवश्यकताओं का पूरा ध्यान रखता है. हमारी उद्योग अनुकूल नीतियों से प्रदेश का औद्योगिक माहौल बदला है. उद्योग जगत की जरूरतों के मुताबिक 21 सेक्टोरल पॉलिसीज तैयार की गई हैं. राज्य गवर्नमेंट पीएम जी के विजन के अनुरूप औद्योगिक विकास के लिए उद्यमियों को सभी महत्वपूर्ण संसाधन मौजूद कराने को तत्पर है तथा अगले साल प्रस्तावित ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में सिंगापुर को पार्टनर कंट्री बनाने में खुशी होगी.

मुख्यमंत्री ने बोला कि औद्योगिक विकास के लिए यूपी में सभी महत्वपूर्ण इंफ्रास्ट्रक्चर मौजूद हैं. यूपी आज एक्सप्रेस वे प्रदेश बन रहा है. बहुत जल्द यह 05 अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला राज्य होगा. हल्दिया से वाराणसी तक पहला इनलैंड वाटर वे यूपी में ही है. यहां पर डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर विकसित किया जा रहा है. ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर तथा वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर यूपी से गुजरते हैं. राज्य में दादरी तथा बोराकी में मल्टीमोडल लॉजिस्टिक/ट्रांसपोर्ट हब की स्थापना की जा रही है. सिंगापुर की कंपनियों को यहां अनुकूल माहौल प्राप्त होगा.

मुख्यमंत्री ने बोला कि जेवर के पास हम भव्य फ़िल्म सिटी की स्थापना कर रहे हैं. यहीं मेडिकल डिवाइस पार्क और फिन-टेक सिटी का विकास हो रहा है. यहां निवेशकों के लिए असीम संभावनाएं हैं.

मुख्यमंत्री ने बोला कि हमारे पास सबसे बड़ा एमएसएमई बेस है. इस क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं हैं. इनके विकास के लिए सिंगापुर हमें योगदान कर सकता है.

उच्चायुक्त ने सीएम को बताया कि जनपद अयोध्या में 8500 परिवारों के जीवन स्तर को ऊंचा करने के लिए सिंगापुर की एक संस्था द्वारा कार्य किया जा रहा है. यहां हर परिवार को स्मार्ट मीटर दिया गया है, जल की बचत और बिजली का न्यूनतम इस्तेमाल करने वाले परिवारों को पुरस्कृत किया जाएगा. परिवारों को जल और ऊर्जा संरक्षण के तौर-तरीकों से अवगत कराया जा रहा है. यह एक मॉडल है, जिसके माध्यम से समाज को सतर्क करने का कोशिश किया जा रहा है.

मुख्यमंत्री ने इस कोशिश को जरूरी बताते हुए इसकी सराहना की. उन्होंने बोला कि आज जल जीवन मिशन के.माध्यम से घर-घर शुद्ध पेयजल मौजूद कराया जा रहा है. ऐसे में जल संरक्षण के लिए अयोध्या मॉडल उपयोगी हो सकता है.

मुख्यमंत्री से भेंट करने वाले सिंगापुर के प्रतिनिधिमंडल में उच्चायुक्त साइमन वांग, क्षेत्रीय निदेशक इंटरप्राइज डेनिस टेन, फर्स्ट सेक्रेटरी (पॉलिटिकल) वू पो चेंग और अब्राहम टेन शामिल रहे