बीजेपी गवर्नमेंट की मंशा 2024 तक हर गरीब को छत दिलवाने की

बीजेपी गवर्नमेंट की मंशा 2024 तक हर गरीब को छत दिलवाने की

केंद्र और राज्य में बीजेपी गवर्नमेंट की मंशा 2024 तक हर गरीब को छत दिलवाने की है. लेकिन यह दावे केवल कागजी साबित हो रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ जौनपुर में 500 आवास ऐसे हैं जो खंडहर में परिवर्तित हो चुके हैं. लगभग 14 वर्ष पहले इन आवास को बनाने के लिए 75% रकम जारी की जा चुकी थी. लेकिन अभी तक इन आवास का आवंटन गरीबों को नहीं किया जा सका है. जौनपुर सदर एसडीएम और ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नागपाल ने इस संबंध में अधूरे कार्यों को पूरा कराने का आश्वासन दिया है.

करोड़ो की लागत से हुए तैयार

जौनपुर के सिद्धीकपुर में करोड़ों की लागत से तकरीबन 500 काशीराम आवास तैयार किए जाने थे. काशीराम आवास का आवंटन गरीबों में किया जाना था. इसके लिए वर्ष 2008-2009 में कांशीराम ग्रामीण गरीब आवास योजना को तत्कालीन बीएसपी गवर्नमेंट ने स्वीकृति मिली थी. निर्माण के लिए 75 चीज भी रकम भी जारी की गई थी. कार्यदाई संस्था आवास विकास परिषद में कार्य प्रारम्भ कर दिया था.

सरकार बदली तो योजना रही अधूरी

लेकिन गवर्नमेंट बदलने के साथ-साथ इस पर काम भी अधूरा रह गया है. पिछले 14 सालों की स्थिति यह है कि काशीराम आवास का निर्माण अभी तक पूरा नहीं हो सका है. करोड़ों रुपए में आवास के सभी आंतरिक काम करा दिए गए थे लेकिन बाहरी मुख्य कामों की प्रबंध सुनिश्चित नहीं की जा सकती है. जिसके चलते आवास खंडहर में परिवर्तित होते जा रहे हैं. अधूरे पड़े काशीराम आवास में आवंटन ना होने से भवन तक जमा रहते हैं.

अधूरे कार्यों को पूरा किया जाए

इस संबंध में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट और जौनपुर सदर एसडीएम हिमांशु नागपाल ने बताया कि संबंधित विभागों से समन्वय स्थापित किया जा रहा है. जो भी काम इसमें अधूरे पड़े हैं उन्हें शीघ्र ही पूरा कराया जाएगा. इस बात को ध्यान में रखा जाएगा कि इसका इस्तेमाल जनमानस के लिए हो. निर्माण कार्य पूरा होने के बाद यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि आवास का आवंटन पारदर्शी ढंग से केवल और केवल गरीब व्यक्तियों के लिए ही हो.