अंपायर से क्यों उलझे विराट कोहली? बुमराह से कहा- 'इसी ओवर में आउट करेंगे इसको'

अंपायर से क्यों उलझे विराट कोहली? बुमराह से कहा- 'इसी ओवर में आउट करेंगे इसको'

टेस्ट क्रिकेट में टाइम की बहुत ज्यादा मूल्य होती है. यहां कई बार ऐसी नौबत आ जाती है जब थोड़ा सा समय बचाना बहुत ज्यादा अहम साबित हो सकता है. साउथ अफ्रीका के विरूद्ध सेंचुरियन टेस्ट के चौथे दिन इसका कुछ ऐसा ही उदाहरण देखने को मिला.

दिन का खेल खत्म होने को था. साउथ अफ्रीका की प्रयास की थी किसी तरह एक ओवर कम खेलना पड़े. वहीं विराट कोहली चाहते थे कि हिंदुस्तान को ओवर बॉलिंग करने को मिल जाए.

साउथ अफ्रीका के खिलाड़ियों डीन एल्गर और केशव महाराज ने समय निकालने की प्रयास की, लेकिन कोहली इससे बहुत नाराज दिखे.

उन्होंने अंपायर से इस पर बात की जो स्टंप माइक में साफ सुनी गई. कोहली ने कहा, 'यह रूल-बुक में लिखा है. आप खेल समाप्त होने से 10 मिनट पहले ड्रिंक्स ब्रके नही ले सकते.' कोहली ने यह बात इसके बाद एल्गर को भी बताई. इसके बाद एल्गर ने एक छोटा सा ड्रिंक्स ब्रेक लिया. एल्गर ने दिन का खेल खत्म होने से दो ओवर पहले ब्रेक लिया था.

इसके बाद अंपायर माराइस इसेरमस ने टोकते हुए कहा, 'हम करेंगे अंपायर, ड्रिंक्स ब्रेक के लिए 10 मिनट बाकी.'

कोहली उस एक ओवर की सम्मान जानते थे. उन्हें पता था कि यदि दिन का समाप्ति यदि विकेट के साथ हो जाता है तो यह हिंदुस्तान के लिए लाभकारी होगा.

आखिर ओवर से पहले कोहली ने जसप्रीत बुमराह को इसका अहसास भी करवाया. कोहली ने बुमराह से कहा, 'यहीं से फेंक, इसी ओवर में आउट करेंगे इसको.' और बुमराह ने ऐसा कर भी दिखाया. ओवर की पांचवीं गेंद पर बुमराह ने नाइट वॉटमैन केशव महाराज को बोल्ड कर दिया. दिन का खेल खत्म होने तक साउथ अफ्रीका का स्कोर चार विकेट पर 94 रन था. साउथ अफ्रीका को जीत के लिए 211 रन चाहिए वहीं भारतीय टीम जीत से छह विकेट दूर है.


बेहद सरलता से आउट हुए विराट कोहली रह गए दंग, देखें VIDEO

बेहद सरलता से आउट हुए विराट कोहली रह गए दंग, देखें VIDEO

सेंचुरियन2018 में भारतीय टीम साउथ अफ्रीका दौरे पर गई थी. जोहानिसबर्ग में टीम इंडिया को नेट प्रैक्टिस में बॉलिंग करने के लिए कुछ लोकल गेंदबाजों को बुलाया गया था. उसमें दो जुड़वा भाई थे. उनमें से एक 17 वर्षीय ने भारतीय इंटरनेशनल क्रिकेटरों को खूब परेशान किया था.

अब आप सोच रहे हैं हम यहां 2018 दौरे और नेट बॉलर की बात क्यों कर रहे हैं? तो बता दें कि उसी नेट बॉलर मार्को जेनसेन ने को सेंचुरियन टेस्ट की दूसरी पारी में 18 रनों पर आउट कर दिया.

बॉक्सिंग डे टेस्ट के चौथे दिन लंच के बाद पहले ही ओवर की पहली गेंद पर विराट कोहली अपना विकेट गंवा बैठे. डेब्यू स्टार मार्को की गेंद गुड लेंथ पर टप्पा खाने के बाद ऑफ स्टंप से बहुत ज्यादा बाहर निकल रही थी और कोहली बल्ला अड़ा बैठे. बाकी का कार्य विकेट के पीछे खड़े क्विंटन डि कॉक ने पूरा किया. बहुत सरलता से कोहली का सीधा कैच लपक लिया. कोहली आउट होने के बाद दंग दिखे. कुछ देर तक वहीं खड़े रह गए.

विराट कोहली के लिए पिछले दो साल संघर्ष वाले रहे हैं. उन्होंने अपना अंतिम शतक बांग्लादेश के विरूद्ध 2019 में लगाया था. उसके बाद से वह कोई बड़ी पारी नहीं खेल सके. सेंचुरियन टेस्ट की बात करेंगे तो यहा वह पहली पारी में भी ऐसे ही हाउट हुए थे.

2021 की बात करें तो कोहली ने 11 टेस्ट में महज 28.21 की औसत से 536 रन बनाए. इस दौरान उनके नाम 4 अर्धशतक रहे, जबकि बेस्ट स्कोर 72 रहा. बेकार फॉर्म की वजह से ही उन्हें टी-20 टीम की कप्तानी छोड़नी पड़ी, जबकि बाद में बीसीसीआई ने वनडे की कप्तानी से भी हटाने का निर्णय किया.


गौरतलब है कि हिंदुस्तान ने अपनी दूसरी पारी में 174 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका के सामने 305 रन का लक्ष्य रखा. हिंदुस्तान ने पहली पारी में 327 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को 197 रन पर आउट करके 130 रन की बढ़त हासिल की थी. हिंदुस्तान की तरफ से दूसरी पारी में ऋषभ पंत ने सर्वाधिक 34 रन बनाए. दक्षिण अफ्रीका के लिए कागिसो रबाडा और मार्को जेनसेन ने चार-चार जबकि लुंगी एनगिडी ने दो विकेट लिए.