पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को लगा झटके पर झटका!

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को लगा झटके पर झटका!

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी पीसीबी को एक के बाद एक झटके पर झटके लग रहे हैं। पहले न्यूजीलैंड की टीम ने पाकिस्तान पहुंचने के बावजूद सुरक्षा कारणों से दौरा कैंसिल कर दिया था। बाद में एक शार्ट सीरीज के लिए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने श्रीलंका और बांग्लादेश को अपना यहां बुलाना चाहा, लेकिन वहां से भी पीसीबी को निराशा हाथ लगी और अब इसी कड़ी में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड यानी ईसीबी ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को तगड़ा झटका दे दिया है।

दरअसल, ईसीबी ने साफ कर दिया है कि इंग्लैंड की पुरुष और महिला टीम को अक्टूबर में पाकिस्तान का दौरा करना था, लेकिन अब टीम अक्टूबर में पाकिस्तान दौरे पर नहीं जाएगी। इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड की ओर से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है, "ईसीबी की 2022 में पुरुषों के फ्यूचर टूर्स प्रोग्राम के हिस्से के रूप में पाकिस्तान का दौरा करने की एक लंबी प्रतिबद्धता है। इस साल की शुरुआत में, हम अक्टूबर में पाकिस्तान में दो अतिरिक्त टी20 मैच टी20 विश्व कप अभ्यास के रूप में खेलने के लिए सहमत हुए थे, जिसमें पुरुषों के खेलों के साथ-साथ महिला टीम को भी पाकिस्तान का एक छोटा दौरा करना था।"


बोर्ड ने आगे कहा, "ईसीबी बोर्ड ने पाकिस्तान में अतिरिक्त मैचों के लिए इंग्लैंड महिला और पुरुष टीम के मैचों पर चर्चा की और हम पुष्टि कर सकते हैं कि बोर्ड ने अक्टूबर की यात्रा से दोनों टीमों को वापस लेने का फैसला किया है। हमारे खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ की मानसिक और शारीरिक भलाई हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता बनी हुई है और यह उस समय को देखते हुए और भी महत्वपूर्ण हैं, जिसमें हम वर्तमान में रह रहे हैं। हम जानते हैं कि इस क्षेत्र की यात्रा के बारे में चिंताएं बढ़ रही हैं और विश्वास है कि आगे बढ़ने से इसमें वृद्धि होगी। एक खेल समूह पर और दबाव है, क्योंकि हम पहले से ही प्रतिबंधित कोविड वातावरण में संचालन की लंबी अवधि का सामना कर रहे हैं।"


बोर्ड ने ये भी कहा है, "हमारी पुरुष टी20 टीम के लिए अतिरिक्त जटिलता है। हमारा मानना है कि इन परिस्थितियों में दौरा करना आइसीसी मेंस टी20 विश्व कप की तैयारियों लिए आदर्श नहीं होगा, जहां अच्छा प्रदर्शन करना 2021 के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है। हम समझते हैं कि यह निर्णय पीसीबी के लिए एक महत्वपूर्ण निराशा होगी, जिन्होंने अपने देश में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी की मेजबानी के लिए अथक प्रयास किए हैं। पिछली दो समर में अंग्रेजी और वेल्श क्रिकेट का उनका समर्थन दोस्ती का एक बड़ा प्रदर्शन रहा है। हम पाकिस्तान में क्रिकेट पर पड़ने वाले प्रभाव के लिए ईमानदारी से खेद व्यक्त करते हैं और 2022 के लिए हमारी मुख्य यात्रा योजनाओं के लिए जारी प्रतिबद्धता पर जोर देते हैं।"


IPL 2021 की अंकतालिका में बड़ा बदलाव, फिर से नंबर वन बनी ये टीम

IPL 2021 की अंकतालिका में बड़ा बदलाव, फिर से नंबर वन बनी ये टीम

दुबई के मैदान पर मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच रविवार को दमदार मुकाबला खेला गया। इस मैच के बाद आइपीएल के 14वें सीजन की अंकतालिका में बड़ा बदलाव देखने को मिला है। एमएस धौनी की कप्तानी वाली टीम चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई इंडियंस को 20 रन से हरा दिया। इस हारे से मुंबई की पोजिशन पर कोई फर्क नहीं पड़ा है, लेकिन चेन्नई को काफी फायदा हुआ, क्योंकि चेन्नई सुपर किंग्स फिर से आइपीएल 2021 की अंकतालिका में शीर्ष पर पहुंचने में सफल हुई है।

आइपीएल 2021 की शुरुआत से ही चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच नंबर एक और नंबर दो की रेस लगी हुई है। कभी दिल्ली कैपिटल्स तो कभी चेन्नई सुपर किंग्स अंकतालिका में पहला और दूसरा स्थान हासिल करती रही हैं। यूएई लेग से पहले दिल्ली की टीम 12 अंकों के साथ अंकतालिका में पहले नंबर पर थी, लेकिन अब चेन्नई सुपर किंग्स इतने ही अंक और बेहतर नेट रन रेट की वजह से नंबर वन बन गई है। नेट रन रेट के मामले में धौनी की टीम ने दिल्ली कैपिटल्स को काफी पीछे छोड़ा हुआ है और यहां से टीम को प्लेआफ के लिए क्वालीफाइ करने के लिए सिर्फ दो मैचों में जीत हासिल करने की जरूरत है। टीम को अभी भी 6 मैच और खेलने हैं।


आइपीएल 2021 की अंकतालिका में तीसरे नंबर पर विराट कोहली की कप्तानी वाली रायल चैलेंजर्स बैंगलोर है। आरसीबी के खाते में 7 मैचों के बाद 10 अंक हैं। वहीं, मुंबई इंडियंस अपने पहले 8 मैचों में सिर्फ 4 मैच जीतकर चौथे स्थान पर है और टीम के खाते में कुल 8 अंक हैं। टीम के नेट रन रेट भी चिंता का विषय बना हुआ है। वहीं, पांचवें नंबर पर राजस्थान रायल्स है, जिसने 7 मैचों में 3 मैच जीते हैं और टीम के खाते में 6 अंक हैं। इतने ही अंक पंजाब किंग्स के खाते में हैं, लेकिन पंजाब की टीम अपने 8 मैच खेल चुकी है। सातवें नबर पर कोलकाता नाइट राइडर्स है, जिसने 7 मैचों में सिर्फ दो मुकाबले जीते हैं, जबकि सबसे आखिर में सनराइजर्स हैदराबाद है, जो अपने पहले सात मैचों में एक मैच जीत पाई है।