यूपी-हरियाणा-उत्‍तराखंड समेत इन राज्‍यों में आज हो सकती है बारिश

यूपी-हरियाणा-उत्‍तराखंड समेत इन राज्‍यों में आज हो सकती है बारिश

भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department) ने मंगलवार सुबह सैटलाइट से प्राप्त तस्वीरों के अनुसार मौसम का पूर्वानुमान जारी किया। मौसम विभाग ने बताया, 'सैटेलाइट से मिली तस्वीरों में राजस्थान के पश्चिमी इलाके, गुजरात, उत्तरी छत्तीसगढ़, ओडिशा, पश्चिम बंगाल,हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र के आंतरिक इलाकों, उत्तर व दक्षिण कर्नाटक, गोवा, उत्तर तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों के ऊपर बादल दिख रहे हैं।' मौसम विभाग द्वारा यह भी कहा गया है कि आगामी 3-4 घंटों के दौरान इन इलाकों में बारिश की संभावना है।


वहीं स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने बताया कि राजस्थान की तरफ निम्न दबाव का क्षेत्र बन रहा है जबकि छत्तीसगढ़ की ओर एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना हुआ है। इन दोनों के मिलने से अगले कई दिनों तक दिल्ली एनसीआर, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश हो सकती है।

 
दिल्ली एनसीआर में आज फिर बदल सकता है मौसम

कई दिनों से शुष्क चल रहा मौसम मंगलवार से एक बार फिर बदल सकता है। अगले छह दिनों तक बारिश होने के आसार हैं। मौसम विभाग ने 26 सितंबर तक के लिए यलो अलर्ट भी जारी कर दिया है। इस दौरान मौसम सुहावना बने रहने की संभावना है। सोमवार को चुभन भरी गर्मी का अहसास हुआ। दिन भर धूप खिली रही। अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 35.8 जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 26.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर 59 से 93 फीसद रहा। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मंगलवार को दिन भर बादल छाए रहेंगे। हल्की बारिश हो सकती है। अधिकतम व न्यूनतम तापमान 34 और 27 डिग्री सेल्सियस रह सकता है। वैसे मौसम में बदलाव और बारिश की संभावना का यह दौर सप्ताह भर तक जारी रहेगा। इसके असर से अधिकतम तापमान भी 31 से 32 डिग्री सेल्सियस तक ही रहने की संभावना है।

 
बंगाल की खाड़ी पर बना है चक्रवात

बंगाल की खाड़ी पर चक्रवात, पूर्वी राजस्थान और उत्तर पश्चिम मध्य प्रदेश पर पर कब दबाव का क्षेत्र बना है। इसके अतिरिक्त मानसून ट्रफ भी मध्य प्रदेश से होकर गुजर रहा है। ऐसे वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से अधिकांश जिलों में रुक-रुककर बारिश हो रही है।

तीन सिस्टम हैं सक्रिय

पूर्वी राजस्थान और उसके आसपास कम दबाव का क्षेत्र बना है। बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात सक्रिय है। फिलहाल मानसून ट्रफ बीकानेर से राजस्थान पर बने कम दबाव के क्षेत्र से होकर सीधी, छत्तीसगढ़ होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है।

 
संतोषजनक श्रेणी में रही एनसीआर की हवा

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी बुलेटिन के अनुसार सोमवार को एनसीआर में सभी जगह की हवा संतोषजनक श्रेणी में दर्ज की गई। सफर इंडिया का कहना है कि बारिश की संभावना के मद्देनजर अभी अगले कई दिन वायु प्रदूषण में अधिक बदलाव की संभावना नहीं है।


महाराष्ट्र की राज्यसभा सीट पर फैसले के साथ कांग्रेस हाईकमान ने दिए सख्‍त संदेश

महाराष्ट्र की राज्यसभा सीट पर फैसले के साथ कांग्रेस हाईकमान ने दिए सख्‍त संदेश

पंजाब में मुख्यमंत्री बदलने का बड़ा फैसला करने के अगले ही दिन कांग्रेस हाईकमान ने महाराष्ट्र की इकलौती राज्यसभा सीट का उम्मीदवार तय करने में भी अपना ही सिक्का चलाया। पार्टी ने जम्मू-कश्मीर की प्रभारी रजनी पाटिल को राज्यसभा चुनाव के लिए सोमवार को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया। इस फैसले ने पार्टी के असंतुष्ट खेमे के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद की फिलहाल राज्यसभा में लौटने की गुंजाइश खत्म कर दी है।

मजबूत दावेदारों को किया दरकिनार

राज्यसभा के लिए हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस को महाराष्ट्र से एक सीट मिलनी तय है और रजनी पाटिल ने आजाद समेत बाकी कम से कम आठ मजबूत दावेदारों को पीछे छोड़ दिया। वैसे आजाद को महाराष्ट्र से मौका मिलना पहले ही कठिन नजर आ रहा था, इसके बावजूद असंतुष्ट खेमे की ओर से संभावनाएं टटोली गईं। रजनी पाटिल राज्यसभा में एक पारी खेल चुकी हैं और बीते कुछ समय से बतौर कांग्रेस प्रभारी जम्मू-कश्मीर की जिम्मेदारी संभाल रही हैं।

अब नाराजगी की परवाह नहीं

महाराष्ट्र की इस इकलौती सीट के लिए दावेदार तो मिलिंद देवड़ा, मुकुल वासनिक और संजय निरूपम जैसे नेता भी थे लेकिन हाईकमान से निकटता के चलते सियासी पलड़ा रजनी पाटिल का भारी रहा। इस कदम के जरिये कांग्रेस नेतृत्व ने यह संकेत भी दे दिया है कि अब बड़े राजनीतिक फैसले लेने में वह असंतोष और नाराजगी की ज्यादा परवाह नहीं करेगा।

शिवसेना-राकांपा का समर्थन मिलना तय 

 
कांग्रेस के युवा नेता रहे राजीव सातव के निधन के कारण महाराष्ट्र की इस सीट पर उपचुनाव हो रहा है। सातव की पत्नी को उम्मीदवार बनाए जाने की अटकलें थीं लेकिन नेतृत्व ने मौजूदा वक्त में अपनी सियासत मजबूत करने की रणनीति के हिसाब से उम्मीदवार तय करना मुनासिब समझा। राज्यसभा की यह सीट कांग्रेस कोटे की थी इसलिए शिवसेना और राकांपा का समर्थन मिलना तय है। इस हिसाब से रजनी पाटिल की जीत पक्की है।