नागपुर के विज्ञान संस्थान की वेबसाइट हैक

नागपुर के विज्ञान संस्थान की वेबसाइट हैक
पैगंबर मौहम्मद पर दिए गए विवादित बयान के बाद राष्ट्र में सड़कों पर लोग उतर आए हैं. अब यह प्रदर्शन सड़क से डिजिटल हो गया है. दरअसल, रविवार को नागपुर विज्ञान संस्थान की वेबसाइट हैक कर लिया गया. वेबासाइट को ड्रैगनफोर्स मलेशिया ने हैक किया, और अपना विरोध जताते हुए होम पेज पर लिखा था कि “यह हमारे पैगंबर मोहम्मद के अपमान पर एक विशेष अभियान है”. 

मैलवेयर के जरिए वेबासाइट को हैक किया गया
इस पूरे मुद्दे की जानकारी पुलिस ने दी है. एक अधिकारी ने बताया कि वेबसाइट को फिर से ठीक करने का काम चल रहा है. साइबर इंस्पेक्टर नितिन फटांगारे ने बोला कि वेबसाइट के होम पेज में एक संदेश था जिसमें लोगों से एकजुट होने और हिंदुस्तान के विरूद्ध अभियान प्रारम्भ करने का आग्रह किया गया था. वेबसाइट को एक मैलवेयर के जरिए हैक किया गया था. हैकर्स ने स्वयं को ‘ड्रैगनफोर्स मलेशिया’ बताया.

मुंबई में भी ऐसा मामला सामने आ चुका है
अधिकारी ने बोला कि शनिवार को मुंबई में भी ऐसा ही मामला सामने आया था. तब से हम अलर्ट पर थे. पुलिस ने एक जांच प्रारम्भ की है. 

कई राष्ट्रों ने टिप्पणियों की निंदा की
देश के कुछ हिस्सों में बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और पार्टी से निष्कासित नेता नवीन जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद विरोध जारी हैं इस बीच वेबसाइट को हैक करने की घटना हुई है. वहीं बता दें कि सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), इंडोनेशिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, जॉर्डन, बहरीन, मालदीव, मलेशिया, ओमान, इराक और लीबिया सहित कई राष्ट्रों ने टिप्पणियों की निंदा की है.

बेहद पुराना है संस्थान
1906 में स्थापित, नागपुर का विज्ञान संस्थान सबसे पुराने विज्ञान महाविद्यालयों में से एक है. यह मध्य हिंदुस्तान का सबसे पुराना विज्ञान उच्च शिक्षण संस्थान है और राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर यूनिवर्सिटी से संबद्ध है.

विस्तार

पैगंबर मौहम्मद पर दिए गए विवादित बयान के बाद राष्ट्र में सड़कों पर लोग उतर आए हैं. अब यह प्रदर्शन सड़क से डिजिटल हो गया है. दरअसल, रविवार को नागपुर विज्ञान संस्थान की वेबसाइट हैक कर लिया गया. वेबासाइट को ड्रैगनफोर्स मलेशिया ने हैक किया, और अपना विरोध जताते हुए होम पेज पर लिखा था कि “यह हमारे पैगंबर मोहम्मद के अपमान पर एक विशेष अभियान है”. 

मैलवेयर के जरिए वेबासाइट को हैक किया गया

इस पूरे मुद्दे की जानकारी पुलिस ने दी है. एक अधिकारी ने बताया कि वेबसाइट को फिर से ठीक करने का काम चल रहा है. साइबर इंस्पेक्टर नितिन फटांगारे ने बोला कि वेबसाइट के होम पेज में एक संदेश था जिसमें लोगों से एकजुट होने और हिंदुस्तान के विरूद्ध अभियान प्रारम्भ करने का आग्रह किया गया था. वेबसाइट को एक मैलवेयर के जरिए हैक किया गया था. हैकर्स ने स्वयं को ‘ड्रैगनफोर्स मलेशिया’ बताया.

मुंबई में भी ऐसा मामला सामने आ चुका है

अधिकारी ने बोला कि शनिवार को मुंबई में भी ऐसा ही मामला सामने आया था. तब से हम अलर्ट पर थे. पुलिस ने एक जांच प्रारम्भ की है. 

कई राष्ट्रों ने टिप्पणियों की निंदा की

देश के कुछ हिस्सों में बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और पार्टी से निष्कासित नेता नवीन जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद विरोध जारी हैं इस बीच वेबसाइट को हैक करने की घटना हुई है. वहीं बता दें कि सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), इंडोनेशिया, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, जॉर्डन, बहरीन, मालदीव, मलेशिया, ओमान, इराक और लीबिया सहित कई राष्ट्रों ने टिप्पणियों की निंदा की है.

बेहद पुराना है संस्थान

1906 में स्थापित, नागपुर का विज्ञान संस्थान सबसे पुराने विज्ञान महाविद्यालयों में से एक है. यह मध्य हिंदुस्तान का सबसे पुराना विज्ञान उच्च शिक्षण संस्थान है और राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर यूनिवर्सिटी से संबद्ध है.