कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण देश में लॉकडाउन घोषित

कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण देश में लॉकडाउन घोषित

महामारी बन चुके कोरोना वायरस ने पहले चाइना में तांड़व मचाया व अब पूरी संसार में खौफनाक ढंग से फैलते से हुए अब तक हजारों लोगों की जान ले चुका है. 

कोरोना वायरस ने अब तक सबसे अधिक तबाही इटली में मचाया है. इस वायरस ने इटली में 7 हजार से अधिक लोगों की जान ले ली है.

लिहाजा इटली में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए संपूर्ण देश में लॉकडाउन घोषित किया है. लेकिन इटली को लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. लिहाजा अब सरकार ने कठोर कदम उठाने का निर्णय किया है.

मीडिया रिपोर्ट में ये समाचार आ रही थी कि बहुत ज्यादा संख्या में लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं, वो बिना कारण ही अपने घर से निकल रहे हैं. इससे वायरस लगातार फैलता जा रहा है. इसलिए अब मुद्दे की गभीरता को देखते हुए पीएम जिजेज्पी कौंटे ने कठोर कदम उठाया है. बता दें कि मंगलवार को इटली में एक दिन में सबसे अधिक 723 लोगों की कोरोना से मृत्यु हो गई थी.

घर से बाहर निकलने पर लगेगा 2.5 लाख जुर्माना

देश में बेकार होते दशा के बीच जब लोग सरकार के आदेश को नहीं मान रहे हैं तो ऐसे में मंगलवार देर रात देश को संबोधित करते हुए इटली के पीएम जिजेज्पी कौंटे ने घोषणा की है कि बुधवार के बाद से जो भी बिना उचित कारण के अपने घर से निकलेगा, उसे 3000 यूरो यानि लगभग 2 लाख 49 हजार रुपए का जुर्माना भरना पड़ेगा. इसेस पहले यह जुर्मा 206 यूरो यानि 17,098 रुपए था.

सरकार ने पहले देश में लॉकडाउन घोषित करते हुए बोला था खाद्य व पेट्रोल आपूर्ति चेनको हर हालत में बरकरार रखा जाएगा.

इटली में 31 जुलाई तक रहेगा आपातकाल

पीएम कौंटे ने देश के नागरिकों को भरोसा दिया कि देश में जो आपातकाल लगा है वह 31 जुलाई को समाप्त हो रही है. इसके बाद सभी लोग सामान्य जिंदगी जीने लगेंगे. अभी कोरोना से लड़ना है व इसके लिए हम सबको मिलकर कार्य करना है.

उन्होंने बोला कि कोरोना से लड़ने के लिए दूसरे राष्ट्रों से भी मदद मांगी जा रही है. सरकार का कोशिश है कि जल्द से जल्द आपातकाल समाप्त हो. कौंटे ने ये भी बोला कि 6 महीनों तक आपातकाल जारी रहने का ये मतलब नहीं है कि तब तक लोगों पर पाबंदियां भी जारी रहेंगी.