न्म के बाद से ही बच्चों का टीकाकरण कराना बहुत महत्वपूर्ण होता है, पढ़े

न्म के बाद से ही बच्चों का टीकाकरण कराना बहुत महत्वपूर्ण होता है, पढ़े

जन्म के बाद से ही बच्चों का टीकाकरण कराना बहुत महत्वपूर्ण होता है. इससे न केवल शिशुओं की इम्युनिटी बढ़ती है बल्कि वे संक्रामक बीमारियों से लडऩे में सक्षम होते हैं. उनमें खसरा, टिटेनस, पोलियो, टीबी, गलघोंटू, काली खांसी व हेपेटाइटिस बी जैसे रोग प्रमुख हैं. इन बीमारियों से भी बचाव होता है. दुनिया स्वास्थ्य संगठन का बोलना है कि नियमित टीकाकरण से शिशुओं में संक्रमण की संभावना 99 प्रतिशत तक घटती है. बीमारियों के चपेट में आने पर जल्द रिकवर होते हैं.


टीका छूट गया तो
किसी कारण यदि शिशु का समय पर टीका नहीं लगा तो दोबारा से लगवा सकते हैं लेकिन शिशु रोग विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें. टीके लगने के बाद आधे घंटे तक शिशु को सोने न दें. इस अवधि में दूध भी नहीं पिलाना होता है व शिशु को गोद में रखें. अधिकतर टीके सरकारी हॉस्पिटल में नि:शुल्क ही लगाए जाते हैं. सरकारी टीके ज्यादा असरदार होते हैं।