Ola Electric Scooter सेगमेंट में हो रहा सबसे ज्यादा लोकप्रिय, जानें क्या है कारण

Ola Electric Scooter सेगमेंट में हो रहा सबसे ज्यादा लोकप्रिय, जानें क्या है कारण

भारत में इलेक्ट्रिक स्कूटर सेगमेंट में ओला ने बीते कुछ समय में काफी लोकप्रियता हासिल की है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक ओला इलेक्ट्रिक की तरफ से घोषणा की गई है, कि कंपनी ने महज दो दिन में 1,100 करोड़ रुपये से अधिक के स्कूटर बेचे हैं। कंपनी की सीईओ ने बताया कि ओला ने पहले 24 घंटों में 600 करोड़ रुपये की बिक्री की थी। फिलहाल इस स्कूटर के लिए फिर से बुकिंग दिवाली के समय 1 नवंबर को शुरू होंगी। यहां ध्यान देने योग्य बात यह है, कि आखिर क्यों ओला स्कूटर को लेकर बाजार में चर्चा का माहौल गर्म है, और इसी विषय पर आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं।

 कीमत और बुकिंग में सबसे किफायती

ओला ने अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर S1 पिछले महीने 99,999 रुपये की कीमत पर लॉन्च किया था। वहीं अधिक पॉवरफुल और लंबी दूरी के लिए तैयार किए गए S1 Pro के लिए कीमत 1,29,999 रुपये तय की गई थी। इस स्कूटर को लॉन्च से पहले ही महज 499 रुपये की मामूली राशि पर बुक किया जा रहा है। वहीं कंपनी का लक्ष्य स्कूटरों को सीधे खरीदारों के घरों तक पहुंचाना है। Ola S1 भारत में एथर 450X, सिंपल वन, बजाज चेतक और टीवी iQube जैसे प्रतिद्वंद्वियों के सामनें खड़ा है। दिलचस्प बात यह है कि सिंपल एनर्जी ने अपना इलेक्ट्रिक स्कूटर सिंपल वन उसी दिन लॉन्च किया था, जिस दिन ओला S1 को उतारा गया था।


Ola S1 ऊपर बताए गए सभी पांच मॉडलों में सबसे किफायती इलेक्ट्रिक स्कूटर के रूप में आता है। S1 की कीमत 99,999 (एक्स-शोरूम) है, जबकि S1 Pro की कीमत 129,999 रुपये (एक्स-शोरूम) है। सिंपल वन ई-स्कूटर की कीमत 1.10 लाख (एक्स-शोरूम) है। एथर 450X 1.32 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) में उपलब्ध है। इसके साथ ही बजाज चेतक की कीमत 1.25 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) से शुरू होती है। जबकि TVS iQube 1 लाख (ऑन-रोड, दिल्ली) में उपलब्ध है।


भारत में मौजूद अन्य स्कूटर के मुकाबले अनोखा डिजाइन

इस स्कूटर का डिजाइन देखने में बेहद आकर्षित है, वर्तमान में भारतीय बाजार में हाई-स्पीड और लो-स्पीड इलेक्ट्रिक स्कूटरों की एक विस्तृत श्रृंखला है। हालांकि, उनमें से अधिकांश में बहुत समान डिज़ाइन होते हैं जैसे कि एलईडी हेडलैम्प्स से लेकर इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर तक, फ्रंट काउल से लेकर रियर प्रोफाइल तक। दूसरी ओर ओला एस1 पूरी तरह से नए डिजाइन के साथ आया है, जो कि काफी यूरोपीय है। Ola S1 नीदरलैंड की इलेक्ट्रिक स्कूटर निर्माता कंपनी Etergo द्वारा विकसित AppScooter पर आधारित है। जो इसे डिजाइन में अन्य स्कूटर से अलग बनाता है।

सबसे किफायती होने के साथ बेहतर रेंज का दावा

Ola S1 8.5 kW का पावर आउटपुट और 58 Nm का टार्क जेनरेट करता है। इस इलेक्ट्रिक स्कूटर को 2.98 kWh लिथियम-आयन बैटरी पैक से लैस किया गया है। वहीं S1 Pro को 3.97 kWh बैटरी पैक से पावर मिलती है, और यह यह एक बार चार्ज करने पर 181 किमी की प्रभावशाली रेंज प्रदान करता है। वहीं इसके अन्य प्रतिद्वंद्वियों की बात करें तो एथर 450X एक बार चार्ज करने पर 116 किमी की दूरी तय करती है।


दूसरी ओर TVS iQube इसके एक बार चार्ज करने पर 75 किमी चलने में सक्षम होने का दावा किया गया है। इसके साथ ही बजाज चेतक इलेक्ट्रिक स्कूटर एक बार चार्ज करने पर 90 किमी चल सकता है। कुल मिलाकर, ये पांच इलेक्ट्रिक स्कूटर समान पावर आउटपुट देते हैं। हालांकि, सिंपल वन उनमें से अधिकतम टॉर्क जेनरेट करता है। वहीं सबसे ज्यादा ड्राइविंग रेंज ओला स्कूटर की होने का दावा किया जा रहा है।


सावधान! Jio यूजर्स के बैंक खातों में सेंध लगा रहे साइबर क्रिमिनल्स, यहां जाने कैसे करें बचाव?

सावधान! Jio यूजर्स के बैंक खातों में सेंध लगा रहे साइबर क्रिमिनल्स, यहां जाने कैसे करें बचाव?

Jio Scam Alert :देश में साइबर फ्रॉड (Cyber Fraud) के मुद्दे तेजी से बढ़ रहे हैं। साइबर क्रिमिनल्स (Cyber Criminals) रोज भिन्न-भिन्न उपायों से लोगों के बैंक खातों (Bank Account) में सेंध लगा रहे हैं।

कभी बैंक ऑफिसर बनकर केवाईसी (KYC) के नाम पर तो कभी नौकरी (Job) के नाम पर। पिछले कुछ दिनों से ठग जियो (Jio) के कस्टमर को e-KYC के नाम पर चूना लगा रहे हैं। इस तरह के कई मुद्दे सामने आ चुके हैं। लगातार मिलती शिकायतों के बाद रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने अब अपने ग्राहकों को एक अलर्ट जारी किया है। इसमें इस तरह के फ्रॉड (Fraud) से बचने के टिप्स भी दिए गए हैं। आइए जानते हैं किस तरह हो रही है जियो कस्टमर से ठगी और इससे कैसे बच सकते हैं।

इस तरह हो रही है ठगी

अभी तक ठगी के कई ऐसे केस सामने आए हैं, जिनमें यूजर्स के पास एक कॉल (Call) आती है और कॉल करने वाला स्वयं को जियो का एग्जिक्यूटिव बताता है। वह e-KYC न कराने पर सिम (Sim) बंद होने की बात कहता है। कॉल करने वाला घर बैठे औनलाइन ही केवाईसी (Online KYC) करने का झांसा देता है। इसके बाद वह लिंक (Link) भेजकर, रिमोट ऐप (Remote App) डाउनलोड कराके या फिर ओटीपी (OTP) के जरिए यूजर्स के बैंक एकाउंट (Bank Account) में सेंध लगा देता है।

इस तरह कर सकते हैं बचाव

इस तरह की ठगी से बचने के लिए सतर्कता महत्वपूर्ण है। रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने भी इस विषय में कस्टमर्स को चेतावनी देते हुए कुछ टिप्स भी दिए हैं।

1. e-KYC के झांसे में न आएं

ग्राहकों को अलर्ट जारी करते हुए जियो ने बोला है कि e-KYC वैरिफिकेशन (Verification) के लिए आने वाले किसी भी कॉल (Call) या मैसेज (Message) पर ध्यान न दें। इस तरह के कॉल या मैसेज में आपको एक नंबर पर कॉल करने के लिए बोला जाता है और इसके बाद आपको झांसे में लेकर ठगी की जाती है। ऐसे में इस तरह केवाईसी (KYC) के चक्कर में न पड़ें। यदि केवाईसी करानी है तो जियो स्टोर (Jio Store Near Me) पर ही जाएं।

2. KYC के लिए कोई भी ऐप न करें डाउनलोड

ठग पहले आपको भरोसे में लेते हैं और फिर KYC अपडेट करने के बहाने आपसे एक ऐप डाउनलोड (App Download) करने को कहते हैं। यह रिमोट ऐप (Remote App) होता है, जिससे आपके फोन का एक्सेस उन्हें मिल जाता है और फिर वह रुपये ट्रांसफर कर लेते हैं। इसलिए यदि ऐसी कोई भी कॉल आए और आपसे ऐप डाउनलोड करने को बोला जाए तो उसे नजरअंदाज करें।

3. कॉल पर किसी को भी न दें पर्सनल और महत्वपूर्ण जानकारी

रिलायंस (Reliance) ने अपने कस्टमर से ये भी अपील की है कि वे अपनी पर्सनल और महत्वपूर्ण जानकारी जैसे आधार नंबर (Adhar), ओटीपी (OTP), बैंक एकाउंट नंबर (Bank Account) आदि को किसी से भी शेयर न करें। इस तरह के कई केस आए हैं जिनमें ठगों ने स्वयं को जियो का कस्टमर केयर ऑफिसर बताकर ऐसी डिटेल्स लेकर ठगी की है।

4. कनेक्शन बंद होने के झांसे में न आएं

कंपनी ने ये भी बोला है कि यदि आपके पास आपका नंबर बंद होने के विषय में कोई कॉल या मैसेज आए तो सावधान होने की आवश्यकता है। ऐसे मैसेज में यदि किसी नंबर का जिक्र हो और उस पर कॉल करने को बोला जाए तो समझ लीजिए कि वह फ्रॉड (Fraud) है। इस तरह सिम (SIM) बंद नहीं होता, यदि सिम बंद भी हो जाता है तो आप जियो सर्विस पॉइंट पर जाकर उसे सक्रिय ेट (SIM Activate) करा सकते हैं।

5. किसी अनजान लिंक पर क्लिक न करें

जियो ने ग्राहकों से किसी अनजान लिंक (Link) पर क्लिक (Click) न करने की भी अपील की है। इस तरह के लिंक e-KYC के नाम पर भेजे जाते हैं। इसमें कस्टमर से बोला जाता है कि आपको लिंक पर क्लिक करके घर बैठे केवाईसी (KYC) की सुविधा मिल जाएगी। कंपनी का बोलना है कि कंपनी या उसके ऑफिसर कभी भी कस्टमर्स को My JIo ऐप के अतिरिक्त किसी अन्य थर्ड पार्टी ऐप को डाउनलोड करने के लिए नहीं कहेगा।