दिल्‍ली में घर पर मंगा सकेंगे इतना डीजल, BPCL-हमसफर ने डोरस्टेप डिलीवरी के लिए मिलाया हाथ

दिल्‍ली में घर पर मंगा सकेंगे इतना डीजल, BPCL-हमसफर ने डोरस्टेप डिलीवरी के लिए मिलाया हाथ

दिल्‍ली वालों के लिए अच्‍छी खबर है। दरअसल, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) ने राष्ट्रीय राजधानी में 20 लीटर जेरीकैन में डीजल की डिलीवरी के लिए दिल्ली मुख्यालय वाले स्टार्ट-अप- हमसफर इंडिया के साथ हाथ मिलाया है। दरवाजे पर डिलीवरी की सुविधा 20 लीटर से कम मात्रा में डीजल की मांग करने वाले ग्राहकों के लिए है।

इनके काम आएगी सुविधा

जेरीकैन में डोरस्टेप डीजल डिलीवरी, जिसका शीर्षक सफर 20 है, से छोटे उद्योगों, मॉल, अस्पतालों, बैंकों, निर्माण स्थलों, किसानों, मोबाइल टावरों, शिक्षा संस्थानों के साथ-साथ छोटे उद्योगों को लाभ होने की उम्मीद है। दरवाजे पर डीजल की थोक आपूर्ति कुछ समय पहले ही शुरू हो चुकी है। नई पहल से छोटे आवश्यकता वाले ग्राहकों को लाभ होगा।

हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में सुविधा पहले से

बीपीसीएल ने हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के पहाड़ी राज्यों में इस 20 लीटर जेरीकैन सेवा को लॉन्च करने की भी योजना बनाई है, क्योंकि अधिकांश रिसॉर्ट होटल, उद्योग और फार्म दूरदराज के इलाकों में हैं और मोटरसाइकिल पर दी जा सकने वाली यह सेवा इन राज्यों में पर्यटकों के लिए बहुत मददगार होगी।


दुकानों से खरीदते थे पहले

इससे पहले, डीजल के उपभोक्ताओं को बैरल में खुदरा दुकानों से इसे खरीदना पड़ता था. कुशल ऊर्जा वितरण बुनियादी ढांचे की कमी थी. डोरस्टेप डीजल डिलीवरी से ऐसी कई समस्याओं का समाधान होने की उम्मीद है और यह थोक उपभोक्ताओं को कानूनी तरीके से डीजल उपलब्ध कराएगी.

सरकार BPCL का प्राइवेटाइजेशन कर रही है। उसके शेयर बेचकर सरकार रकम जुटाएगी।  सरकार ने विनिवेश के माध्यम से चालू वित्त वर्ष में 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है।


निर्यात में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, जुलाई के शुरुआती तीन सप्ताह में 45 फीसद की बढ़ोतरी

निर्यात में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, जुलाई के शुरुआती तीन सप्ताह में 45 फीसद की बढ़ोतरी

चालू वित्त वर्ष में निर्यात में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है। जुलाई के शुरुआती तीन सप्ताह में वस्तुओं के निर्यात में पिछले वर्ष समान अवधि के मुकाबले 45.13 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई। वर्ष 2019 की समान अवधि के मुकाबले यह बढ़ोतरी 25.42 फीसद की है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून, 2021) में 95.39 अरब डालर का निर्यात किया गया जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 85 फीसद और वर्ष 2019 की समान अवधि के मुकाबले 17.90 फीसद अधिक है।

पिछले वर्ष अप्रैल-जून में 51.32 अरब डालर का निर्यात किया गया, जो वर्ष 2019 के अप्रैल-जून में 80.91 अरब डालर का था। कोरोना की दूसरी लहर के बावजूद अप्रैल से वस्तुओं के निर्यात में दहाई अंकों की बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है।वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक इस वर्ष जुलाई के शुरुआती तीन सप्ताह (21 जुलाई तक) में 22.48 अरब डालर का निर्यात किया गया जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में यह 15.49 अरब डालर का था। वर्ष 2019 के जुलाई के शुरुआती तीन सप्ताह में 17.92 अरब डालर का निर्यात हुआ था।

इस वर्ष समीक्षाधीन अवधि में आयात में पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 64.82 फीसद बढ़कर 31.77 अरब डालर पर पहुंच गया। वर्ष 2019 की समान अवधि में 25.77 अरब डालर का आयात किया गया था। वहीं, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही का आयात पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले 108 फीसद बढ़कर 126.15 अरब डालर हो गया। चालू वित्त में तेजी को देखते हुए वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय ने 400 अरब डालर के निर्यात का लक्ष्य रखा है।