बिहार को PM मोदी की बड़ी सौगात: पटना के बाद अब गोपालगंज में खुलेगा राज्‍य का दूसरा आयुष अस्पताल

बिहार को PM मोदी की बड़ी सौगात: पटना के बाद अब गोपालगंज में खुलेगा राज्‍य का दूसरा आयुष अस्पताल

बिहार के गोपालगंज में राज्‍य का दूसरा आयुष अस्‍पताल (Ayush Hospital) खोला जाएगा। केंद्र सरकार ने इसके लिए 6.40 करोड़ रुपये गोपालगंज जिला प्रशासन को आवंटित भी कर दिए हैं। राज्‍य में एक आयुष अस्‍पताल पटना में चल रहा है। गोपालगंज के जनता दल यूनाइटेड सांसद डा. आलोक कुमार सुमन (JDU MP Dr. Alok Kumar Suman) ने इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की गोपालगंज को दी गई सौगात बताया है।

आयुष अस्‍पताल में एलोपैथ छोड़ आयुर्वेद (Ayurveda), होमियोपैथ (Homeopath), यूनानी (Unani), योगा (Yoga) आदि देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से इलाज किया जाएगा। इसमें देशी पद्धतियों के प्रशिक्षित डाक्‍टरों व चिकित्‍साकर्मियों की टीम तैनात रहेगी।

गोपालगंज में बनेगा 50 बेड का आयुष अस्‍पताल

केंद्र सरकार का आयुष मंत्रालय गोपालगंज में 50 बेड का आयुष अस्‍पताल बना रहा है। इस इंटीग्रेटेड अस्‍पताल में आयुर्वेद, होम्योपैथ एवं योग सहित अन्य देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से मरीजो का इलाज किया जाएगा। अस्‍पताल के लिए केंद्र सरकार ने 6.40 करोड़ का आवंटन कर दिया है। इसकी जानकारी देते हुए सासंद आलोक सुमन ने कहा कि अस्‍पताल के लिए गोपालगंज सदर प्रखंड के भीतभैरवा गांव के निकट मिशन के पास जमीन की मंजूरी की बाबत बिहार सरकार के पास प्रस्ताव भेजा जा चुका है। राज्‍य सरकार की मंजूरी मिलते ही अस्‍पताल निर्माण की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी।

कोरोना की तीसरी लहर को ले तैयारियां जारी

सांसद डा. आलोक कुमार सुमन ने गोपालगंज में कोरोनावायरस संक्रमण की तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर भी बात की। बताया कि पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) की राशि से गोपालगंज सदर अस्‍पताल (Gopalganj Sadar Hospital) में एक हजार क्षमता के आक्सीजन जेनरेशन प्लांट (Oxygen Generation Plant) को बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जिले में सदर अस्‍पताल, थावे, हथुआ व सिधवलिया के झझवा में पांच आक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। मीरगंज के छाप में पहले से एक आक्सीजन प्लांट है। अन्‍य तैयारियां भी लगातार की जा रहीं हैं।


बिहार को मिली 350 एंबुलेंस और 50 नई सीएनजी बसों की सौगात, सीएम ने किया सेवा का शुभारंभ

बिहार को मिली 350 एंबुलेंस और 50 नई सीएनजी बसों की सौगात, सीएम ने किया सेवा का शुभारंभ

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने शनिवार को संवाद से 350 नई एंबुलेंस और 50 नई सीएनजी बस (CNG Buses) सेवा का उदघाटन किया। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री रेणु देवी, परिवहन मंत्री शीला कुमारी, विकास आयुक्त आमिर सुबहानी, परिवहन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल समेत कई लोग उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम परिवहन योजना के अंतर्गत एंबुलेंस सेवा शुरू होने से ग्रामीण इलाकों में लोगों को इसका लाभ मिलेगा। सीएनजी बसें राजधानी को प्रदूषण मुक्त बनाने में मदद करेंगी।

दिसंबर तक 1000 एम्बुलेंस देने की योजना 

मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में एम्बुलेंस सेवा के लिए पहले चरण में 350 लाभुकों का चयन किया गया है। अक्टूबर तक 800 एम्बुलेंस सेवा शुरू करने का लक्ष्य है, जबकि दिसंबर तक 1000 से अधिक लाभुकों को नई एम्बुलेंस के लिए 2 लाख तक अनुदान देने की योजना है।  बताया जाता है कि हर एंबुलेंस पर कुल चार कर्मी रहेंगे। वे सभी यूनीफार्म में रहेंगे। इनमें दो ड्राइवर होंगे। यह प्रखंडो में रहेगी। 


50 नई सीएनजी बसें राजधानी की विभिन्न रूट पर दौड़ेंगी

नई बसें गांधी मैदान से दानापुर बस स्टैंड, गांधी मैदान से दानापुर रेलवे स्टेशन, गांधी मैदान से बिहटा आईआइटी, गांधी मैदान से पटना साहिब स्टेशन और गांधी मैदान से दानापुर हांडी साहेब गुरुद्वारा के बीच चलेंगी। मालूम हो कि आरंभ में 20 बसों को सीएनजी में बदला गया था। कहा गया है कि मार्च 2022 तक पटना की सभी सीटी डीजल बसों को सीएनजी में बदल दिया जाएगा।  


सीएनजी बसों की यह होगी खासियत 

सभी सीएनजी बस जीपीएस, सीसीटीवी, पैनिक बटन आदि आधुनिक सुविधाओं से लैस है। यात्रियों को मार्गों की जानकारी के चार डिस्प्ले बोर्ड भी लगाए गए हैं। बसों के अंदर मोबाइल चार्ज करने की भी व्यवस्था है। बस में चालक समेत कुल 32 सीटें हैं। जीपीएस से बस के वास्‍तविक स्‍थान का पता लगाना संभव होगा। आपातकालीन स्थिति में पैनिक बटन उपयोगी होगा। सभी बसों में तीन-तीन सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।